वेस्याओं की जिंदगी जानकर चोंक जाओगे आप

loading...

वेश्याओं की जिंदगी के हज़ारों काले सच हमारे सामने आते रहते हैं। वेश्यावृत्ति एक ऐसी जगह है जिसमें एक बार जाने के बाद किसी के लिए भी निकल पाना मुश्किल होता है। लड़कियां यहाँ 14, 15 या 16 साल में आती हैं और अपनी जिंदगी के कई साल यहां गुजारने के बाद बुढ़ी होने तक रहती हैं। यह एक दलदल जैसा है जहां से निकलना नामुमकिन जैसा है। अक्सर देखा जाता है कि वैश्यालय में लड़कियों को छोटी उम्र से ही रखा जाता है। अमुमन लड़कियों को 12 से 14 साल की उम्र तक जिस्मफरोशी के धंधे में उतार दिया है।

एक वेश्या की जिंदगी कैसे गुजरती है अगर आप ये जान लें तो शायद आपकी भी आंखों में आंसू आ जाये। आज हम इस दलदल में जी रही कुछ औरतों के अनुभव आपको बताएंगे। आज हम बातएंगे कि कस्टमर इन लड़कियों से कैसी कैसी डिमांड करते हैं। दुनिया से मुंह मोड़ चुकीं इन लड़कियों के लिए कस्टमर की सब कुछ होता है। इनकी जिंदगी कस्मटर पर ही टिकी होती है। इसीलिए इन लड़कियों के सामने कस्टमर की लगभग हर बात मानने कि मजबुरी होती है। आज हम बात कर रहे हैं वेश्यालयों में आने वाले उन कस्टमर कि जो इन लड़कियों से अजीबोगरीब चींजे करने के लिए कहते हैं।

कस्टमर कभी कभी इन लड़कियों के सामने ऐसी डिमांड रख देते हैं जो वो बिल्कुल भी नहीं करना चाहती है। आप भी शायद इन कस्टमर कि अजीबों-गरीब डिमांड जानकर चौंक जाएंगे। वेश्यालय में काम करने वाली एक लड़की ने अपनी तकलीफ शेयर करते हुए बताया कि अक्सर एक कस्टमर उसको ग्लास में पेशाब करने के लिए कहता था और वह उसे इस काम के लिए 13 हजार रुपये देता है। एक अन्य सेक्स वर्कर ने बताया कि उनके यहां एक कस्टमर आता है जो 7 लड़कियों को नग्न कराकर उनका मुंह दीवार की तरफ करवाता है और फिर हस्तमैथुन करता है।

वहीं एक सेक्स वर्कर ने बेहद दिलचस्प बात बताते हुए कहा कि, उनके यहां एक ऐसा कस्टमर आता जो हम लोगों से नकली गनफाइट करवाने के पूरे पैसा देता है। कस्मटर नकली बंदूक से एक दूसरे पर फायर करने और गालियां देने के लिए कहता है। एक दूसरी सेक्स वर्क ने बताया कि उसका एक कस्टमर उसे अपनी मां बनने के लिए कहता है और फिर वो बच्चों की तरह कमरे में दौड़ता है।

एक अन्य कस्टमर ने एक सेक्स वर्कर से सिर्फ कॉम्बैट बूट्स पहनकर कविता पढ़ने की डिमांड की थी। शायद आपको ये जानकर अजीब लगे लेकिन एक सेक्स वर्कर को रोज ऐसे ऐसे कस्मटर की डिंमांड पूरी करनी पड़ती है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*